How to become a Full Stack Developer in 2022

By | August 21, 2022

How to become a Full Stack Developer in 2022  :- क्या आप Full Stack Developer बनना चाहते हैं ताकि डेवलपमेंट प्रोजेक्ट में invalve सारी टेक्निक्स में मास्टर हो सके ताकि आप बहुत तेजी से एक प्रोटोटाइप बना सके | प्रोजेक्ट की Cost को Reduce करना आपके हाथ में हो | रिक्वायरमेंट के base पर Front End और Web and Development के बीच में swich भी कर सके | New and Upcoming टेक्नोलॉजी के सारे aspects आसानी से समझ में आए और अच्छा सैलरी पैकेज एंजॉय कर पाए | क्योंकि आज सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट industry में फुल स्टैक डेवलपर की हाई डिमांड है | तो फिर आपका फुल स्टैक डेवलपर बनने का इरादा रखना तो बनता ही है और फिर इतने सारे एडवांटेजेस जानने के बाद तो आप सॉफ्टवेयर प्रोग्रामिंग के इस दुनिया में फुल स्टैक डेवलपर बनने के लिए तैयार भी हो गए होंगे लेकिन क्या आप इसके बारे में यानी फुल स्टैक डेवलपमेंट के बारे में जानते हैं |

How to become a Full Stack Developer

How to become a Full Stack Developer

हो सकता है कि आपको इसके बारे में थोड़ी नॉलेज हो लेकिन अगर आप इसके बारे में बिल्कुल भी नहीं जानते हैं तो आप इस article के जरिए Full Stack Development को अच्छी तरीके से समझ लेना चाहिए ताकि आपके career option की लिस्ट में एक और Bright और Interesting Career Option जुड़ सके तो चलिए आज इसी बारे में बात करते हैं और article को शुरू करते हैं |

Also Read : What are Pathogens full Information

How to become a Full Stack Developer in 2022

Full Stack Development में वेब एप्लीकेशंस के Front End यानी client-side और Back End यानी Server side portions का डेवलपमेंट शामिल होता है और एक फुल स्टैक वेब डेवलपर कंपलीट वेब एप्लीकेशन और वेबसाइट को डिजाइन करने की एबिलिटी रखता है | क्योंकि वह वेब एप्लीकेशन या वेबसाइट के front end, back end, Database और Debugging पर काम करता है | ये फुल स्टैक डेवलपर ऐसे all-rounders होते हैं जो बहुत सारी स्किल्स में मास्टर होते हैं और उन स्किल्स का यूज करके एक प्रोजेक्ट को इंडिपेंडेंटली कंप्लीट करते हैं | तो आइए Front end and Back End को One by One समझते हैं |

Front End Development :

Front End वेबसाइट और वेब एप्लीकेशन का विजिबल पार्ट होता है जो यूजर एक्सपीरियंस के लिए रिस्पांसिबल होता है क्योंकि यूजर डायरेक्टली वेबसाइट और वेब एप्लीकेशन के fornt end portion से interact करता है | एक वेब पेज पर Logo, Search Bar, Button और Overall Layout सब कुछ fornt end में ही आता है और फ्रंट एंड डेवलपर वेबसाइट के लुक और फील्ड का इंचार्ज होता है | इसकी जिम्मेदारी ये Assure करना भी होता है की वेबसाइट हर डिवाइस पर यानी कि Phones पर, टेबलेट पर और कंप्यूटर स्क्रीन पर अच्छी दिखाई दे |

Front End Portion जिन Languages से मिलकर बना है वह है HTML जो Web Pages के front end portion को डिजाइन करने में यूज़ की जाती है | CSS यानी Cascading Style Sheet जो की डिजाइन लैंग्वेज है और Web Pages को प्रेजेंटेबल बनाने की Process को Simplify करती है | Java Script ये ऐसे Scripting Language है जो उस Website को user के लिए Interative बनाती है |

इन लैंग्वेज इसके अलावा Framworks और Libraries भी होती है जो कुछ इस तरीके से काम करते हैं जैसे Bread पर Buttor और Jam करते हैं यानी उसे और भी ज्यादा टेस्टी बना देते हैं क्योंकि Performance को बेहतर बनाने में हेल्प करते हैं टाइम बचाते हैं efforts को Reduce कराते हैं फ्लैक्सिबिलिटी लाते हैं इसलिए अब जान लेते हैं Libraries और Framworks के बारे में |

Library & Framworks :

Frameworks Software Resources and Tool का ऐसा सेट होता है जिसके जरिए डेवलपर्स वेब एप्लीकेशंस वेब सर्विसेज और वेबसाइट को Build और Manage करते हैं और Library Specific फंक्शनैलिटी के लिए हेल्पर फंक्शंस ऑब्जेक्ट और मॉड्यूस का सेट प्रोवाइड कराती है | Front End में अवेलेबल फ्रेम वर्क्स और लाइब्रेरी यह है :

Angular JS :

यह javascript  Open Source Front end framework | यह Mainly Single Page वेब एप्लीकेशन को develop करने में यूज होता है ये Static HTML को Dynamic HTML में चेंज करता है इसे कोई भी यूज कर सकता है और चेंज भी कर सकता है |

Bootstrap :

यह Responsive वेबसाइट और वेब एप्लीकेशंस क्रिएट करने के लिए एक फ्री और ओपन सोर्स टूल कलेक्शन है | 

React.JS:

यह user interface build करने के लिए एफिशिएंट और फ्लैक्सिबल JavaScript Library है जो एप्लीकेशन कि केवल View Layerर के लिए रिस्पांसिबल होती है |

JQuery :

यह एक Open Source JavaScript लाइब्रेरी है जो HTML and CSS डॉक्यूमेंट के बीच इंटरेक्शन को सिंपलीफाई करती है |

SAAS :

ये सबसे ज्यादा रिलाएबल और Mature CSS एक्सटेंशन लैंग्वेज है जो किसी Site कि Existing CSS की फंक्शनैलिटी को एक्सटेंड करने के लिए यूज होती है|

इसी तरह कुछ और Libraries और frameworks में फाउंडेशन backbone.js और express.js शामिल है तो यह तो हुई fontend की बात और अब आगे जान लेते हैं backend के बारे में |

Back End Development :

इसमें वेब एप्लीकेशन और वेबसाइट का सर्वर साइड आता है और उसका प्राइमरी फोकस इसी पर होता है की वेबसाइट कैसे काम करती है | इसमें एप्लीकेशन का वह part आता है जिसे यूजर नहीं देखता | एक Backend Developer वेबसाइट के लॉजिक पर servers Create करने पर और Database और API के साथ काम करने पर फोकस करता है |

Backend Portion में यूज होने वाली Languages है PhP | यह Server Side Scripting Language है जो Specifically Web Develoer App डेवलपमेंट के लिए डिजाइन की गई है |

C++ जो कि एक जनरल purpose Programming Language है और कॉम्पिटेटिव प्रोग्रामिंग में बहुत ही यूज होती है |

Java – यह मोस्ट पॉपुलर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज और प्लेटफॉर्म है और Highly स्केलेबल भी है |

Javascript – यह लैंग्वेज fornt end और back end प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के रूप में यूज की जाती है |

Python – यह प्रोग्रामिंग लैंग्वेज work speed को बढ़ाती है और systems को ज्यादा एफिशिएंटली इंटीग्रेट करने में हेल्प करती है | इनके अलावा C#, Ruby, REST, GO भी Backend लैंग्वेजेस होती है और अब जान लेते हैं backend के लिए यूज़फुल frameworks के बारे में |

Frameworks for Backend Developement :

ये Frameworks Server Side Programming Language की लाइब्रेरीज होती है जो किसी साइट के बैक एंड स्ट्रक्चर को कंस्ट्रक्ट करती है | यह है

Node.js :

एक एक Open Source Server Environment है जो बहुत से प्लेटफार्म पर RUN करता है और यह सर्वर पर जावास्क्रिप्ट का यूज करता है | ये ना तो एक framework है और ना ही प्रोग्रामिंग लैंग्वेज |  यह बहुत से Javascript Modules की Rick लाइब्रेरी भी प्रोवाइड कराता है जो वेब एप्लीकेशन के डेवलपमेंट simplify करता है | 

 Express,js :

यह एक फ्लैक्सिबल node.js वेब एप्लीकेशन Frameworks है जो वेब और मोबाइल एप्लीकेशंस के लिए Features का एक Strong Set Provide कराता है |

Laravel :

यह Top PHP Framework में से एक है जो डाटा के साथ-साथ यूजर्स को भी एनहैंस्ड सिक्योरिटी ऑफर करता है |

Database :

अब जानते हैं डेटाबेस के बारे में क्योंकि हमने इस article में पहले यह जाना है कि एक Full Stack Developer Front end and Back End, Database और Debugging पर काम करता है और इनमें से frontend और backend के बारे में तो हम बात कर ही चुके हैं | तो अब आई ना बारी डेटाबेस को समझने की तो आइए इसे जान लेते हैं क्योंकि हर सॉफ्टवेयर प्रोडक्ट को डाटा स्टोर करने के लिए एक डेटाबेस की जरूरत पड़ती है और यह डेटाबेस इंटररिलेटेड डाटा का ऐसा कलेक्शन होता है जो डेटाबेस से डाटा के efficient retrieval, insertion and deletion में हेल्प करता है और डाटा को Tables, Views और रिपोर्ट की फॉर्म में ऑर्गेनाइज करता है |

ऐसे कुछ डेटाबेस है Oracle | यह एक ऐसी डाटा का कलेक्शन है जो एक यूनिट के रूप में treat किया जाता है इसका परपज क्वेरी रिलेटेड इनफार्मेशन store और retrieve करना होता है |

Conclusion

यह जानकारी यह article आपको कैसा लगा कमेंट बॉक्स में लिखकर किस जरूर बताइएगा | कोई और सवाल है जिसके बारे में आप काफी दिनों से सोच रहे हैं तो अपना वह सवाल हमें लिख दीजिए हमारी पूरी टीम रिसर्च करके और अच्छी खासी मेहनत एक आर्टिकल को लिखती है इसलिए थोड़ा इंतजार आपको करना होगा तो बस सवाल लिख दीजिए और इंतजार कीजिए अपने सवाल के जवाब का |

तो दोस्तों हम उम्मीद करते है की अब आपको How to become a Full Stack Developer  के बारे में पूरी जानकारी मिल गयी होगी और आप इसके बारे में अच्छे से समझ गये होंगे |

Also Read : How to Become Cinematographer in 2022

3 thoughts on “How to become a Full Stack Developer in 2022

  1. Pingback: What is Software Testing : Bug Boundy in 2022 - VentoLineRol

  2. Pingback: How to Become Cinematographer in 2022 - VentoLineRol

  3. Pingback: How to start Transport Business in 2022 - The Rajpoot Express

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *